रास्ते पर बैग बेचने वाले आदमी ने खड़ी कर दी 250 करोड़ की कंपनी

कहते हैं किसी भी बड़ी कामयाबी को प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को पूरी मेहनत लगन और समर्पित भावना के साथ उस काम में अपने आपको झोंक देना चाहिए। यदि आप ऐसा नहीं करते तो आप छोटी सी सफलता भी प्राप्त नहीं कर सकते। एक लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को दिन-रात उसी लक्ष्य के बारे में सोचना और उसी लक्ष्य के तरफ बढ़ना पड़ता है।

ऐसा ही एक ही ग्रुप लाख आंखों के सामने रखकर बढ़ने वाले एक बिजनेसमैन की दास्तान इस लेख में हम आपको बताने जा रहे हैं जो किसी समय सड़कों पर बैग बेचने का काम किया करता था और उसने अब 250 करोड़ रु’पए की कंपनी खड़ी कर दी।

रास्ते पर बैग बेचने वाले आदमी ने खड़ी कर दी 250 करोड़ की कंपनी
रास्ते पर बैग बेचने वाले आदमी ने खड़ी कर दी 250 करोड़ की कंपनी

हम बात कर रहे हैं भारत की मशहूर बैग बनाने वाली कंपनी के सह संस्थापक और एमडी तुषार जैन के बारे में। तुषार जैन हाई स्पिरिट कमर्शियल वेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड के सह संस्थापक और एमडी है। आज के समय में तुषार जैन काफी बड़े बिजनेसमैन बन चुके हैं परंतु उनकी इस सफलता के पीछे एक बहुत ही संघर्ष मई कहानी छिपी हुई है।

साल 1993 में तुषार जैन के पिता मूलचंद जैन का एक दुर्घटना में काफी पै’सों का नुकसान हुआ था। वह दुर्घटना एक बहुत बड़ा घोटाला थी। वह घोटाला स्टॉक ब्रोकर हर्षद मेहता का घोटाला था जिसमें तुषार जैन के पिता मूलचंद जैन के भी पै’से डूब गए थे।

रास्ते पर बैग बेचने वाले आदमी ने खड़ी कर दी 250 करोड़ की कंपनी
रास्ते पर बैग बेचने वाले आदमी ने खड़ी कर दी 250 करोड़ की कंपनी

पै’सों का इतना बड़ा नुकसान होने के बाद मूलचंद जैन रास्ते पर आ गए थे। तब उस समय उन्होंने मुंबई की सड़कों पर बैग बेचने का काम शुरू किया। इस काम में तुषार जैन भी अपने पिता की मदद करते थे। धीरे-धीरे भी उसी लाइन में आगे बढ़ते गए और साल 1999 में 300 रिटेलर्स को साथ में लेकर तुषार जैन ने उसी क्षेत्र में अपने काम को और आगे बढ़ाया। तुषार को धीरे-धीरे सफलता मिलती गई और साल 2002 में उन्होंने मुंबई में आकर अपना बिजनेस सेटल कर लिया।

तुषार ने उसी समय अपना बिजनेस देश के अन्य हिस्सों में भी फैलाने के बारे में सोच लिया। साल 2006 में उन्होंने प्रियोरिटी नाम से अपनी एक बैग लॉन्च की।

साल 2007 आते-आते तुषार जैन का नाम पूरे मार्केट में फैल गया। तुषार जैन ने अपनी कंपनी के ब्रांड को देश के कोने-कोने तक फैलाने के लिए काफी मेहनत की और साल 2012 में उन्होंने हाई स्पिरिट कमर्शियल वेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना की। उनकी इस कंपनी का मुख्य ऑफिस मुंबई में ही स्थित है।

साल 2014 आते-आते तुषार जैन की कंपनी 90 करोड़ का बिजनेस करने लगी और प्रतिदिन 10,000 से लेकर 20000 तक बैग बनाने लगी। साल 2017 तक तुषार जैन की कंपनी ने केवल 3 वर्षों में 90 करोड़ से बढ़कर 250 करोड़ का बिजनेस कर लिया।

रास्ते पर बैग बेचने वाले आदमी ने खड़ी कर दी 250 करोड़ की कंपनी
रास्ते पर बैग बेचने वाले आदमी ने खड़ी कर दी 250 करोड़ की कंपनी

बाद में तुषार जैन के द्वारा ट्रावर्ल्ड और हैशटैग ब्रांड का लॉन्चिंग किया गया। तुषार जैन की कंपनी के द्वारा इस ब्रांड के एंबेसडर के तौर पर मशहूर अभिनेत्री सोनम कपूर को रखा गया। वर्तमान में तुषार जैन की कंपनी के पूरे देश में करीब 10 ऑफिस है। तुषार जैन की कंपनी वर्तमान में देश की चौथी सबसे बड़ी बैग बनाने वाली कंपनी है।

तुषार जैन चाहते हैं कि आने वाले 5 वर्षों में उनकी कंपनी हजार करोड़ के बिजनेस को पार करें। वे चाहते हैं कि आने वाले समय में वे 2500000 बैग प्रतिवर्ष बना सके। तुषार जयंती कंपनी का एक नया प्लांट बिहार में भी बन रहा है।

About the Author: Rani Patil

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.